ये दुनिया की तीसरी सबसे प्रभावशाली माँ की कहानी है

2017 में फ़ोर्ब्स ने अपनी लिस्ट में उन्हें दुनिया की 11 वीं सबसे प्रभावशाली महिला के रूप में शामिल किया था.
2016 में फ़ोर्ब्स ने उन्हें दुनिया की तीसरी सबसे प्रभावशाली माँ का दर्जा भी दिया था.


दक्षिण भारत के एक साधारण परिवार में जन्म हुआ था उनका.
बचपन में उनकी माँ उनसे कहा करती थी कि जब तुम 18 वर्ष की हो जाओगी तब मै तुम्हारा विवाह तो करा दूँगी पर तुम सपने देखना मत छोड़ना.


उन्ही दिनों उनकी माँ उनसे एक सवाल भी पूछा करती थी ‘संसार को बदलने के लिए तुम क्या करोगी.’
उन्होंने अपनी माँ की सलाह और सवाल दोनों को बहुत ही गंभीरता से समझा.


अपनी जिन्दगी की शुरुआत एक रिसेप्शनिस्ट की नौकरी के साथ करने वाली ये महिला आज दुनिया की सबसे बड़ी ई-कॉमर्स कम्पनी अमेज़न के निदेशक मंडल में शामिल हैं.


ये दुनिया की तीसरी सबसे प्रभावशाली माँ की कहानी है.
ये इंदिरा नूयी की कहानी है.

सफरनामा: रिसेप्शनिस्ट से पेप्सिको की सीईओ और अब अमेज़न की निदेशक तक

Indira with PM Narendra Modi (Pic: dnaindia.com)


ये 1955 का साल था, तारीख थी 28 अक्टूबर.
चेन्नई के जिला न्यायाधीश के घर पोती का जन्म हुआ, नाम रखा गया इंदिरा.
इंदिरा के पिता स्टेट बैंक ऑफ़ हैदराबाद के मुलाजिम थे और माँ साधारण गृहणी.


इंदिरा की प्रारम्भिक शिक्षा होली एंजल्स स्कूल से हुयी.
1974 में अपनी स्नातक की डिग्री उन्होंने मद्रास क्रिश्चियन कॉलेज से प्राप्त करी और परास्नातक के लिए आइआइएम कोलकाता में दाखिला लिया.


1976 में परास्नातक की डिग्री लेने बाद उन्होंने अगले दो वर्षों तक बतौर प्रोडक्ट मैनेजर जॉन्सन एंड जॉन्सन में अपनी सेवायें दी.
1978 में इंदिरा ने अमेरिका की येल यूनिवर्सिटी में ‘पब्लिक एंड प्राइवेट मैनेजमेंट’ का अध्यन करने हेतु दाखिला लिया.
येल में पढ़ाई के दौरान अपना खर्च उठाने हेतु वो नाईट शिफ्ट में काम भी किया करती थी.


इंदिरा के संघर्ष को इस तथ्य से भी समझा जा सकता है कि अपने पहले जॉब इंटरव्यू के लिए ड्रेस खरीदने हेतु उन्होंने बतौर रिसेप्शनिस्ट भी काम किया.
इंदिरा ने अपनी जिन्दगी में बहुत सी छोटी-बड़ी कम्पनियों में काम किया लेकिन उनकी जिन्दगी का टर्निंग प्वाइंट आया 1994 में.


ये वो साल था जब उन्होंने पेप्सिको को बतौर लॉन्ग टर्म पॉलिसीज के हेड के तौर पर ज्वाइन किया.
पेप्सिको में लगातार दस वर्षों तक अपनी उत्कृष्ट सेवायें देने की बदौलत 2004 में उन्हें कम्पनी की मुख्य फाइनेंस अधिकारी और 2006 में उन्हें कम्पनी के सीईओ के पद पर प्रमोट किया गया.


इंदिरा पेप्सिको की पहली महिला सीईओ हैं.
अक्टूबर 2018 में उन्होंने पेप्सिको के सीईओ पद से इस्तीफा दे दिया.
फिलहाल इंदिरा नूयी ई-कॉमर्स कम्पनी अमेज़न के निदेशक मंडल की सदस्य हैं.
इंदिरा नूई अमेज़न के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स में शामिल होने वाली दूसरी अश्वेत महिला हैं.


इससे पहले फरवरी की शुरुआत में स्टारबक्स की एक्जेक्यूटिव रोसलिंड ब्रेवर भी बोर्ड में शामिल हुई थीं.
इन सबके साथ ही इंदिरा अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद की स्वतंत्र महिला निदेशक भी हैं.

पद्म सम्मान से लेकर विश्व की शक्तिशाली महिलाओं की सूचि तक धाक रखती हैं इंदिरा


इंदिरा नूयी का जीवन निश्चित तौर पर बेहद प्रेरणादायी है.
संघर्ष के प्रतिफल के रूप में उनके नाम ढेर सारी उपलब्धियाँ भी रही हैं.
भारत सरकार ने 2007 में उन्हें पद्म भूषण से भी सम्मानित किया है.


नूयी को फ़ोर्ब्स ने 2008 से 2014 तक लगातार 100 सबसे ज्यादा प्रभावशाली व्यक्ति की श्रेणी में रखा था.
फार्च्यून ने भी उन्हें 2006 से 2010 तक व्यसाय के क्षेत्र में 100 सबसे प्रभावशाली महिला की सूचि में स्थान दिया था.


2008 में यू.एस. न्यूज़ एंड वर्ल्ड रिपोर्ट ने उन्हें ‘अमेरिका के सबसे बेहतरीन नेताओं की सूचि’ में शामिल किया.
सन 2008 में उन्हें ‘अमेरिकन एकेडेमी ओद आर्ट्स एंड साइंसेज’ के फ़ेलोशिप के लिए चुना गया. जनुअरी 2008 में उन्हें अमेरिका–इंडिया बिज़नस कौंसिल का अध्यक्ष चुना गया.


2009 में लीडर्स ग्रुप ने उन्हें ‘सी.इ.ओ. ऑफ़ द इयर चुना.
2009 में ही सलाहकार संस्था ‘ब्रेंडन वुड इंटरनेशनल’ ने उन्हें ‘द टॉपगन सीइओ की उपाधि भी दी.

इंदिरा आज एक सफल महिला कार्पोरेटर के तौर पर अपनी एक अलग पहचान भले ही रखती हों पर अपनी व्यस्तताओं के बाद भी उन्होंने भारतीय पारिवारिक मूल्यों की अहमियत समझी है.


उनकी दो बेटियाँ हैं जिनकी परवरिश उन्होंने तमाम व्यस्तताओं के बाद भी स्वयं की देख-रेख में करी.


इसका जीता-जागता प्रमाण इससे बेहतर क्या हो सकता है कि 2016 में फ़ोर्ब्स ने उन्हें दुनिया तीसरी सबसे प्रभावशाली माँ की उपाधि दी.
इंदिरा नूयी ने निश्चित तौर पर इस बात को चरितार्थ किया है कि ‘स्त्री का मूल स्वभाव मातृत्व है.’

2 thoughts on “ये दुनिया की तीसरी सबसे प्रभावशाली माँ की कहानी है

  1. Hello! mojobharat.com

    We advance

    Sending your message through the Contact us form which can be found on the sites in the Communication section. Contact form are filled in by our program and the captcha is solved. The advantage of this method is that messages sent through feedback forms are whitelisted. This method raise the odds that your message will be read.

    Our database contains more than 25 million sites around the world to which we can send your message.

    The cost of one million messages 49 USD

    FREE TEST mailing of 50,000 messages to any country of your choice.

    This message is automatically generated to use our contacts for communication.

    Contact us.
    Telegram – @FeedbackFormEU
    Skype FeedbackForm2019
    Email – FeedbackForm@make-success.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *